March 1, 2024
WhatsApp Group Join Now

गेहूँ अधिक पैदवार देने वाली किस्में,Wheat Top Varieties

गेहूँ अधिक पैदवार देने वाली किस्में,Wheat Top Varieties

राम राम सभी किसान भाईयों को ,। 🙏🏽🙏🏽🙏🏽हैप्पी दिवाली इन एडवांस में 🙏🏽🙏🏽🙏🏽 आज हम आपको गेहूं की उन्नत किस्मों के बारे में बताएंगे ताकि आप भी इन उन्नत नस्लों का लाभ उठा सकें। विश्व में गेहूं उत्पादन में तीसरे स्थान पर है भारत ने इस वर्ष 17मिलियन टेन गेहूं निर्यात किया है इस प्रकार गेहूं की अधिक पैदावार के लिए आपकी उन्नत किस्मों का होना बहुत जरूरी है ताकि फुल पैदावार ले सको आओ आज हम आपको गेहूं की टॉप किस्मों के बारे में बताएंगे आपको इस पोस्ट में 👉🏼👉🏼👉🏼👉🏼👉🏼👇🏼👇🏼👇🏼👇🏼👇🏼👇🏼👉🏼👉🏼👉🏼👉🏼👉🏼। भारतीय कृषि अनुसंधान केन्द्र के अनुसार गेहूं की उन्नत पैदावार 👉🏼✍️✍️✍️✍️✍️👉👉👉👉👉✍️✍️✍️👉👉। 1, गेहूं की बुबाई 10नवंबर से25 नवंबर तक करे।
किस्म,✍🏼✍🏼👉🏼👉🏼
HD 2967
HD4714
HD285
HD2894
HD2687
PBW17
PBW550
PBW502
WH542
WH8 96
इत्यादि टॉप किस्म है। किसान भाईयों इन किस्मों की उपज 50से60 क्विटल प्रति हेक्टेयर है
गेहूं की लेट बिजाई
25नवंबर से 25दिसंबर तक 👉👉👉👉👉👇👇👇👇👇
किस्म ✍🏼✍🏼
एचडी2985
WR 544
Raj 3765
PBW3373
DBW16
H1021
PBW590
Up 2425
इत्यादि किस्म है।
इन किस्मों की उपज 40से 45क्विटल प्रति हेक्टेयर तक पाई जाती है।

सूखे में गेहूं बुवाई 10 नवंबर से 25 नोमेंबर ✍🏼✍🏼✍🏼✍🏼✍🏼

टॉप गेहूं किस्म
एचडी2888,
पीबीडब्ल्यू396
,PBW 299
WH 533,
PBW,175 इत्यादि किस्म है।

सही समय पर गेहूं की उपज 👉🏼👉🏼👉🏼👉🏼 इन किस्मों की उपज 30से45 क्विटल प्रति हेक्टेयर है।
उतरी पूर्वी इलाकों में गेहूं कि टॉपटन किस्म 👉🏼👉🏼👉🏼👉🏼👉🏼
सिंचाई हुई भूमि के लिए समय से गेहूं बुवाई की किस्म
10नवंबर से 25नवंबर।

गेहूं की किस्म
एचडी2733
HD,2834
Raj4120
PBW443
k9 107
आदि टॉप किस्म है।

गेहूँ की उन्नत किस्में चार्ट 👇

हेलो किसान भाइयों गेहूं की जो भी किस्म बताई है आपको वो सबसे टॉप किस्मों में से एक हैं
लेकिन आप इन किस्मों का फायदा अपनी बुद्धि और जमीन की उपज और गुणवता को देकर ही ले। ताकि आपको इनका दुगुना फायदा मिल सके
🙏🏽🙏🏽🙏🏽धन्यवाद 🙏🙏🙏

खेती बाड़ी जानकारी किसी भी प्रकार की जिम्मेवारी नही लेता है हमारा उद्देश्य सिर्फ किसानो के पास सही और सटीक जानकारी पहुँचाना है आपका दिन मगलमय हो धन्यवाद

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!